पेट्रोल कैसे बनता है ? Petrol kaise banta hai - hindigyan24

पेट्रोल कैसे बनता है ? Petrol kaise banta hai

Petrol kaise banta hai : आजकी इस लेख में हम आपको को पेट्रोल कैसे बनता है ? इसके बारे में बताएँगे पूरी जानकारी लेने के लिए हमारे इस लेख में अंतिम तक बने रहें

Petrol kaise banta hai

पेट्रोल कैसे बनता है ? How Petrol Is Made

दोस्तों अगर आपके पास गाड़ी है तो आपको पता है की पेट्रोल की कितने आवश्यक होती है और बिना पेट्रोल के गाड़ी नहीं चलती यह तो पता ही होगा आपको , लेकिन जब गाड़ी में पेट्रोल ख़त्म हो जाता है तो हम पेट्रोल पंप में जाके पेट्रोल डलवाते है लेकिन दोस्तों क्या आपको पता है

पेट्रोल कहा से और कैसे बनता है। अगर आपको पता नहीं है तो आज इस लेख में आपको एक एक डिटेल्स बताने वाला हु। इसके लिए हमारे इस लेख को पूरा पढ़ना होगा। आपको बता दे की पेट्रोल को गैसोलीन के रूप में भी जाना जाता है। और पेट्रोल एक ज्वलनशील तरल होता है। यानि की यह जलने वाला तरल पदार्थ है। और इसका इस्तेमाल आंतरिक दहन इंजनों में होता है।

तो चलिए जानते है कच्चे तेल से पेट्रोल बनाने की प्रक्रिया (how petrol is made from crude oil ) के बारे में

कच्चे तेल से पेट्रोल कैसे बनता है ?

what is crude oil :सबसे पहले यह जानते है की crude oil kya hai ?आपको जानकारी होनी जरुरी है की हाइड्रोकार्बन, कार्बनिक यौगिकों और अन्य कई सामग्रियों से बना हुवा एक जीवाश्म ईंधन है। और यह सभी कई हजारो साल से दबे हुवे समुद्री पौधों और जानवरों के अवशेषों से बनता है। और निचे दबे होने से गर्मी होने से सड़ने लगते है और यह कच्चे तेल में बदल जाता है। और इसी का इस्तेमाल करके गैसोलीन, डीजल और जेट ईंधन बनाया जाता है

दोस्तों कच्चे तेल से पेट्रोल बनाने के कुछ प्रक्रिया होते है और यह प्रक्रिया हमने निचे स्टेप बाई स्टेप लिखें है आइये जानते है

रिफाइनिंग कच्चा तेल ( Refining Crude Oil)

दोस्तों पेट्रोल बनाने के लिए सबसे पहले कच्चे तेल का शोधन किया जाता है। और यह काचा तेल जमीन के निचे से निकाला जाता है। और इसमें कई सारे हाइड्रोकार्बन का मिश्रण होता है। जब कच्चा तेल बाहर निकाला जाता है तब उसको रिफाइनरी के लिए भेजा जाता है। और यहाँ कच्चे तेल (crude oil ) को गर्म किया जाता है। और कई हाइड्रोकार्बन को अलग अलग करने के लिए रिफाइन किया जाता है।

और इसमें आसवन, क्रैकिंग और उपचार सहित रासायनिक प्रतिक्रियाओं को शामिल किया जाता है। दोस्तों रेफाइने करने का कारण यह है की इसमें मौजूद विभिन्न हाइड्रोकार्बन को अलग करना है। और इसका इस्तेमाल सोलीन सहित विभिन्न उत्पादों को बनाने के लिए होगा

आसवन ( Distillation)

उसके बाद रेफिने का प्रक्रिया ख़त्म होने के बाद अलग किये गया हाइड्रोकार्बन को एक बड़े से टावरों में आसवित किया जाता है। उसके बाद जैसे ही आसवन होता है तभी हाइड्रोकार्बन वाष्पीकृत होने लगता है। और बोइलिंग पॉइंट के आधार में अलग अलग होने लगते है।

और उसके बाद कई घटकों को जमा किया जाता है। और तब जाके इसको गैसोलीन सहित विभिन्न उत्पादों को बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है

सम्मिश्रण ( Blending)

उसके बाद गैसोलीन के कई सारे ग्रेड का उत्पादन करने के लिए डिस्टिल्ड हाइड्रोकार्बन को एक साथ मिलाया जाता है। और यह सब विशिष्ट ऑक्टेन रेटिंग के साथ होता है। और ऑक्टेन रेटिंग दहन के दौरान “दस्तक” या “पिंगिंग” का विरोध करने की गैसोलीन की क्षमता का एक उपाय है,

और जिससे इंजन को नुकसान हो सकता है। और दोस्तों उच्च ऑक्टेन रेटिंग वाले गैसोलीन का उत्पादन करने के लिए, उच्च-ऑक्टेन घटकों को निम्न-ऑक्टेन घटकों के साथ मिश्रित किया जाता है।

गुणवत्ता नियंत्रण और परीक्षण ( Quality control and testing)

यह सब होने के बाद अंतिम में पेट्रोलको परीक्षणों की एक श्रृंखला से गुजरन पड़ता है। ताकि यह पता चल सके की यह सही है। इसको पता करने के लिए पेट्रोल को वाहन में डाल कर टेस्ट किया जाता है

निष्कर्ष

तो दोस्तों आजकी इस लेख में हमने पेट्रोल कैसे बनता है इसके बारेमे जाना है आशा करते है की आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर यह लेख पसंद आया हो तो ऐसे ही लेख पढ़ने के लिए हमारे इस साइट में विजिट करते रहें

यह भी पढ़े :

1 बैरल कच्चे तेल से कितना पेट्रोल निकलता है?

158.987 लीटर

कच्चे तेल से पेट्रोल कैसे निकालते हैं?

हाइड्रोकार्बन, कार्बनिक यौगिकों और अन्य कई सामग्रियों से बना हुवा एक जीवाश्म ईंधन है। और यह सभी कई हजारो साल से दबे हुवे समुद्री पौधों और जानवरों के अवशेषों से बनता है। और निचे दबे होने से गर्मी होने से सड़ने लगते है और यह कच्चे तेल में बदल जाता है। और इसी का इस्तेमाल करके गैसोलीन, डीजल और जेट ईंधन बनाया जाता है

पेट्रोल कैसे उत्पन्न हुआ?

इसके बारे में हमने आर्टिकल में लिखा है

सबसे महंगा पेट्रोल कौन से देश में है?

आईसलैंड : 206.48 रुपये लीटर

Leave a Comment