India Hydroelectric Power Plant | हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट क्या है ?

Manoj kumar
By Manoj kumar 7 Min Read

दोस्तों स्वागत है आपको हमारे इस लेख में आजकी इस लेख में हम आपको Hydroelectric Power Plant kya hai और Hydroelectric Power kaise kaam karta hai इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे, अगर आप हमारे इस लेख में अंतिम तक रहते है तो आपको इसके बारे में पूरी जानकारी मिलेगा

India Hydroelectric Power Plant

Hydroelectric Power क्या है ?

दोस्तों हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर का मतलब यह होता है की यह एक बिजली उत्पादन करने वाला एक रूप है। आपको बता दे की पानी से बिजली निकालने के लिए पानी की गतिज ऊर्जा का इस्तेमाल करता है। और तब बिजली उत्पादन होता है ,

हम इसके बारे में और जानेंगे। दोस्तों बिजली उत्पादन करने के लिए ज्यादा तर नदी का इस्तेमाल किया ज्यादा है , नदी में बांध बनाया जाता है और पानी का मात्रा भरने लगता है और उसके बाद टरबाइन को पानी के माध्यम से जोड़ा जाता है। जैसे पानी गिरता है तो टरबाइन घूमने लगता है और बिजली निकालने लगता है।

दोस्तों आपको बता दे की हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर को ऊर्जा का एक नवीकरणीय और स्थायी स्रोत भी माना जाता है। क्यो की दोस्तों हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन या सीमित संसाधनों का उपभोग नहीं करती है

हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट के फायदे (hydroelectric power plant advantages and disadvantages)

Advantages of Hydroelectric Power Plant : दोस्तों Hydroelectric Power प्लांट की फायदे देखा जाये तो बहुत फायदे है जैसे की हमने निचे दिए है

  • लगातार बिजली मिलता है : जैसे की सौर या पवन ऊर्जा ऊर्जा में बिजली मौसम के अनुसार मिलता है, जैसे की अगर मौसम थोड़ा हवा दे रहा है तो बिजली मिलेगा अगर हवा नहीं चल रहा है तो बिजली नहीं मिलेगा लेकिन Hydroelectric में ऐसे नहीं होता इसमें लगातार बिजली मिलता है।
  • परिचालन में लागत बेहद कम: दोस्तों इसमें क्या होता है की जब एक बार जलविद्युत संयंत्र बन जाता है तो बिजली उत्पादन के अन्य रूपों की तुलना में इसके संचालन और रखरखाव में लगत बेहद कम होता है।
  • पर्यावरण स्वच्छ और अनुकूल: दोस्तों वातावरण के लिए हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर बेहद अच्छा है क्यो की यह ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन या अन्य प्रदूषकों का उत्पादन नहीं करता है जो की हमारे पर्यावरण को नुकसान नहीं होता । इस ऊर्जा का एक स्वच्छ और स्थायी स्रोत भी माना जा सकता है
  • भंडारण क्षमता किया जा सकता है: जैसे की हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट जलाशयों में पानी जमा करता हैं, ताकि बिजली पैदा कर सके और आवश्यकतानुसार पानी छोड़ा जा सकता है। और जब आवश्यकता अनुसार के पानी गिरता है तो बिजली उत्पन्न होता है
  • सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण : दोस्तों हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर को सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण परियोजनाओं के लिए जोड़ा जा सकता है, और इससे स्थानीय लोगो को कई फायदे मिल सकता है। हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर भी बिजली संयंत्र के पास रहने वाले समुदायों के लिए आय का एक स्रोत बना रहता है

हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर के नुकसान

  • लागत ज्यादा : दोस्तों हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर का निर्माण करने में महंगा हो सकता है, जैसे की बड़े बांधों, नहरों और अन्य बुनियादी ढांचे के निर्माण की आवश्यकता होती है। बिना ढांचे के हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर का निर्माण नहीं किया जा सकता है।
  • पर्यावरण पर प्रभाव पड़ सकता है : हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर के कारण पर्यावरण और स्थानीय समुदायों को प्रभाव कर सकता है।जैसे की नदी पर बांध बनाने से पानी का प्रवाह बदल सकता है और मछली और अन्य पानी में रहने वाले जीवन के प्रवासन को प्रभावित कर सकता है।
  • सीमित उपलब्धता: दोस्तों हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर का एक और समस्या है है की केवल उन क्षेत्रों में बिजली उत्पन्न की जा सकती है जहां बिजली उत्पन्न करने के लिए अधिकमात्रा में पानी का स्रोत है, अगर पानी का स्रोत कम है तो बिजली की उत्पादन नहीं हो सकता
  • स्थानीय समुदायों पर प्रभाव पड़ सकता है : हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर उन लोगो के लिए बाधा बन सकता है जो नदी में मछली पकड़ने और अपनी जीवन यापन करने में निर्भर रहते है
  • सूखे मौसम असर : दोस्तों जब नदी सूखा पड़ जाता है तो नदी में पानी का मात्रा नहीं होता है और जब पानी नहीं होगा तो बिजली कैसे निकलेगा

Solar cooking Stove : एक बार ख़रीदे सोलर कुकर लाइफटाइम के लिए

भारत में हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर की सूची

List of hydroelectric power plant in india : दोस्तों भारत में कई सारे हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट है और हमने 10 नाम निचे दिए है

NameLocatedcapacity
tehri DamUttarakhand2,400 MW.
Nathpa Jhakri DamHimachal Pradesh780 MW.
Sardar Sarovar DamGujarat1,450 MW.
Bhakra Nangal DamHimachal Pradesh and Punjab1,325 MW.
Srisailam DamAndhra Pradesh1,200 MW.
Rihand DamUttar Pradesh1,000 MW.
Idukki DamKerala780 MW.
Nagarjuna Sagar DamAndhra Pradesh780 MW.
Koyna DamMaharashtra740 MW.
Rangit DamSikkim540 MW.

निष्कर्ष

तो दोस्तों आजकी इस लेख में हमने india hydroelectric power plant ke bare me जाना है आशा करते है की आपको यह लेख पसंद आया हो अगर ऐसे की लेख पढ़ना चाहते है तो हमरे इस साइट में जरूर विजिट करे और इस लेख को शेयर करे धन्यवाद

Green House Effect In Hindi | ग्रीन हाउस इफेक्ट क्या है ?

FAQ

जलविद्युत कैसे काम करता है?

हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर का मतलब यह होता है की यह एक बिजली उत्पादन करने वाला एक रूप है। आपको बता दे की पानी से बिजली निकालने के लिए पानी की गतिज ऊर्जा का इस्तेमाल करता है। और तब बिजली उत्पादन होता है

भारत का सबसे बड़ा हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कहा है

नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन, हिमाचल प्रदेश में स्थित है। इसकी क्षमता 1,500 मेगावाट है।

भारत का पहला हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कौन सा है

नाथपा झाकरी हाइड्रो पावर स्टेशन

Share This Article
Follow:
में Manoj kumar हूँ l मुझे बचपन से बहुत अधिक लिखने का सोख है l देश दुनिये में चल रहे नए- नए चीजों के बारेमे जानना और इसके बारे में रिसर्च करना मुझे बेहद पसंद है l मैंने 2022 में अपना वेबसाइट बनाया है और हेल्थ, सरकारी योजना, टेक्नोलॉजी संबंधी विषयों पर रिसर्च करके जानकारी लिखना सुरु किया और में अपने वेबसाइट में यूनिक कंटेंट लिखनेके लिए बेहद कड़ी मेहनत करता रहता हु ताकि आपको सही जानकारी दें सकू धन्यवाद्
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *