Harnia Kya Hai In Hindi- कारण, लक्षण, और उपचार - hindigyan24

Harnia Kya Hai In Hindi- कारण, लक्षण, और उपचार

स्वागत है आपको हमारे इस ब्लॉग में आजकी इस लेख में हम आपको हर्निया के बारे में जानकारी देंगे कई लोग ऐसे है जिनको हर्निया का समस्या है और आजकी इस ब्लॉग में हम आपको harniya kya h in hindi और यह कैसे होता है इसके साथ कई सारे डिटेल्स बताने वाले है बने रहें हमारे इस साइट में

Harnia Kya Hai In Hindi

Harnia Kya Hai In Hindi

दोस्तों यह समस्या तब होता है जब आपके पेट में कोई भी अंग ऊतक कोई भी छेद के मदत से बाहर आता है। जैसे की कई बार हमारे आंत पेट की कोई भी कमजोर हिस्से या दिवार से बाहर आती है। आपको बता दे की यह एक बेहद ही आम बात है खास कर जब पेट में हो। हर्निया पेट और जाँघ के बिच में होता है। आपको बता दे की इस रोग के लक्षण दिखाई नहीं देते लेकिन कभी कभार बेहद तेजी से दर्द होने लगता है। और कई समस्या दिखाई देता है।

दोस्तों हर्निया कुल 5 प्रकार के होते है आइये जानते है इन 5 प्रकार के हर्निया के बारे में पूरी जानकारी

हर्निया रोग के 5 प्रकार ( type of harniya in hindi )

  • इनगुइनल हर्निया
  • हाइटल हर्निया
  • अम्बिलिकल हर्निया
  • इंसिजनल हर्निया
  • स्पोर्ट्स हर्निया

इनगुइनल हर्निया

इनगुइनल हर्निया एक सामान्य हर्निया है। आपको बता दे की लगभग 70% हर्निया का मामला इनगुइनल हर्निया होता है। इस वाले हर्निया में पेट की निचे छेद होता है। और उस हिस्से की अंदर की आंत बाहर आती है। लेकिन दोस्तों आमतौर पर यह वाला हर्निया जांघ के आस पास होती है यह वाला हर्निया ज्यादातर पुरुषो में देखा जाता है। इनगुइनल हर्निया महिलाओ में कम होता है।

हाइटल हर्निया

जो भी व्यक्ति 50 के ऊपर है उनको हाइटल हर्निया ज्यादा मात्रा में देखा गया है। आपको बता दे की इस इस वाले हर्निया में गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स पैदा होता है। और इसी के कारण पेट की समान का रिसाव भोजन नलिका होने लगता है और पेट में जलन होता है

अम्बिलिकल हर्निया

6 महीने के कम बच्चो को अम्बिलिकल हर्निया ज्यादातर देखा जाता है। इस वाले हर्निया में आंत का उभार पेट की अंदर की हिस्से की परत के अंतर्गत नाभि के पास में आजाता है। और जब भी आपका सिसु रोने लगता है तब यह उभार को नाभि के किनारे या नाभि में देखा जा सकता है। दोस्तों यह वाला हरिया ही एक ऐसे हर्निया है अगर आपके पेट की मांसपेशी मजबूत है तो आपकी हर्निया अपने आप ठीक होता है। लेकिन कई बार बच्चे की उम्र एक साल होने के बाद भी ठीक होने का नाम नहीं लेती तब इसको डॉक्टर्स सर्जरी करके ठीक करते है

इंसिजनल हर्निया

अगर आपके पेट में पहले कभी सर्जरी हुवा है तो इंसिजनल हर्निया होने का खतरा ज्यादा होता है। कई बार कोई भी प्रकार की सर्जरी जब होती है तब पेट में चीरफाड़ किया जाता है और समय कमजोर हिस्से की मांसपेशी के वजह से इंसिजनल हर्निया होने का खतरा होता है

स्पोर्ट्स हर्निया

दोस्तों अगर आपके सरीर यानि की पेट की निचले हिस्से में अगर कमजोर मांसपेशी है तो उत्तक के फटने यह हर्निया होता है

हर्निया रोग होने के 8 कारण ( 8 reasons for having hernia disease )

  • उम्र बढ़ने के कारण
  • चोट लगने के कारण
  • गर्भवती अवस्था
  • ज्यादा मोटापा होना
  • धूम्रपान करने की वजह
  • वजन अधिक होने से
  • पुरानी खांसी बार बार आना
  • पुरानी कब्ज होने की वजह से

यह भी पढ़ें:

हर्निया रोग के लक्षण (Symptoms of Hernia in hindi )

जैसे की हमने हर्निया के प्रकार जाने और अब जानते है इसके लक्षण क्या क्या है। आपको बता दे की हर्निया के भी कई सारे लक्षण होते है। आइये जानते है हर्निया के कुछ लक्षण

  • प्रभावित हिस्से में मांसपेशी उभरा हुवा दिखाई देता है
  • और उस जगह को छूने से हल्का दर्द महसूस होना
  • और ऐसा लगना की सरीर में भारी हो रहा है
  • और एक जगह में खड़े होने में परेशानी होना
  • सौच करते समय दर्द होना
  • और छाले में ऐसा लगना की कुछ फूला हुवा है
  • और सरीर से चर्बी बाहर आना

हर्निया से कैसे बचे (Hernia Prevention In Hindi)

दोस्तों हमने निचे कुछ ऐसे पॉइंट लिखे है जिनके बारे में जान के हर्निया से बचने का उपाए जान सकते है

  • हर्निया से बचने के लिए धूम्रपान ना करें
  • अगर खासी ठीक नहीं हो रहा है तो डॉक्टर्स से संपर्क करें
  • वजन को कण्ट्रोल करके रखे
  • कोई भी समान घुटनो से उठाये और पीठ का इस्तेमाल ना करें
  • ज्यादा वजन कभी ना उठाये

हर्निया रोग का इलाज (treatment of hernia hindi )

जैसे की हमने ऊपर कई सारे बातें जाने है और हर्निया की इलाज आवश्यक नहीं होता अपने आप ठीक हो सकता है लेकिन कुछ मामले ऐसे होते है की उनका सर्जरी करना आवश्यक होता है। और अगर आपका हर्निया जल्दी ठीक नहीं हो रहा है तो डॉक्टर्स की सल्ल्हा जरूर लें

Disclaimer: इस ब्लॉग में लिखा गया आर्टिकल सिर्फ सामान्य जानकारी देता है। इसमें किसी भी प्रकार की योग्य चिकित्सा राय सलाह नहीं देता है। अधिक जानकारी लेने के लिए आपको किसी भी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से सलाह लेना होगा। hindigyan24 इन सभी जानकारी के लिए जिम्मेदार का दवा नहीं करता।

निष्कर्ष

तो दोस्तों आजकी इस लेख में हमने हर्निया के बारे में जाना है और कई सारे जानकारी जैसे की हर्निया होने की वजह और कारण के साथ साथ लक्षण भी जाने है। अगर आपको हर्निया का समस्या है तो आप डॉक्टर्स की निगरानी में अपना इलाज कर सकते है। तो दोस्तों ऐसे ही जानकारी के लिए हमारे इस साइट की विजिट करते रहें

FAQ

हर्निया कैसे होता है ?

जब आपके पेट में कोई भी अंग ऊतक कोई भी छेद के मदत से बाहर आता है। जैसे की कई बार हमारे आंत पेट की कोई भी कमजोर हिस्से या दिवार से बाहर आती है।

हर्निया का लक्षण क्या हैं?

प्रभावित हिस्से में मांसपेशी उभरा हुवा दिखाई देता है
और उस जगह को छूने से हल्का दर्द महसूस होना
और ऐसा लगना की सरीर में भारी हो रहा है
और एक जगह में खड़े होने में परेशानी होना
सौच करते समय दर्द होना
और छाले में ऐसा लगना की कुछ फूला हुवा है
और सरीर से चर्बी बाहर आना

हर्निया की पहचान कैसे होती है?

पेट की मसलस कमजोर और पेट में कोई समस्या पैदा होने लगती है तब हर्निया हो सकता है।

Leave a Comment