Baby Boy Kis Side Hota Hai-प्रेगनेंसी में लड़का किस साइड होता है - hindigyan24

Baby Boy Kis Side Hota Hai-प्रेगनेंसी में लड़का किस साइड होता है

Baby boy kis side hota hai

गर्भ में लड़का किस साइड होता है-Baby Boy Kis Side Hota Hai

सभी माता पिता यह पूछते है की “गर्भ में बच्चा किस तरफ है? लेकिन इस सवाल का जवाब एक नहीं होता क्यो की गर्भ में पल रहे बच्चा की स्थिति अलग अलग हो सकता है।

आपको बता दे की गर्भाशय में बच्चे का स्थान सिर्फ एक जगह नहीं होता है बल्कि स्थान कई कारकों से प्रभावित होता है, और इस में एमनियोटिक द्रव की मात्रा और मां की शारीरिक संरचना शामिल है।

आपको जानकारी करदें की गर्भाशय में पल रहे बच्चे का स्थान के आधार पर उसके लिंग का निर्धारण करना संभव नहीं है।

लेकिन दोस्तों हमारे पूर्बजों का दावा है की लड़के गर्भाशय के दाहिने तरफ होते है। और लड़कियां बाईं तरफ होती है। ये एक कहानी कई सालो से कहा जा रहा है , लेकिन इसका समर्थन करने के लिए वैज्ञानिक प्रमाण भी हैं।

कुछ बैज्ञानिक ने अध्यन किया और इस अध्यन में पाया गया की प्लेसेंटा, जो वह अंग है जो बच्चे को मां की रक्त आपूर्ति से जोड़ता है,

और लड़के गर्भधारण में गर्भाशय के दाहिने तरफ स्थित होने की अधिक संभावना हो जाता है। और ये अध्यन कई सारे बैज्ञानिक मिलकर किये है

और अध्यन में यही पाया गया है की पुरुष शिशु गर्भावस्था के बाद के चरणों में गर्भाशय के दाहिने साइड पर होने की अधिक संभावना होता है

लेकिन दोस्तों ये भी ध्यान देना जरुरी है की इस अध्यन को छोटे समय के लिए अध्यन किया गया तह और निष्कर्षों की पुष्टि के लिए बैज्ञानिको और भी ज्यादा शोध की आवश्यकता है।

और ये भी ध्यान देना जरुरी है की हमारे बूढ़ी दादा दादी ने जो कहा है वह हमेशा सटीक नहीं होती हैं। और हमें ये भी ध्यान देना होगा की ऐसे कई कारक हैं जो बच्चे के स्थान को प्रभावित कर सकते हैं,

रामजी का सिद्धांत ( Ramji’s theory hindi)

दोस्तों डॉ. साद रामजी इस्माइली ने 2000 के दशक में एक ऐसा सिद्धांत का विकसित किया जिसमें दावा किया गया की प्लेसेंटा के स्थान के आधार पर 6 सप्ताह की गर्भावस्था की शुरुआत में बच्चे के लिंग का निर्धारण किया जा सकता है। और ये रामजी का सिद्धांत कहता है।

और इस सिद्धांत को रामजी की विधि के रूप में भी जाना जा रहा है। और दोस्तों इस विचार पर आधारित प्लेसेंटा गर्भाशय के उसी तरफ विकसित होता है जैसे बच्चे के अंडाशय या वृषण।

गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कब करना चाहिए ?

आपको ये भी बता दे की रामजी की विधि का उपयोग करने के लिए तकनीशियन करीब 6 हप्ते तक गर्भ में प्लेसेंटा की अल्ट्रासाउंड चित्र को देखता है। अगर गर्भ में प्लेसेंटा गर्भाशय के दाहिने तरफ विकसित हो रही है

तो दाहिने तरफ लड़का होगा अगर वही प्लेसेंटा गर्भाशय के बाईं तरफ विकसित होती है तो इनके सिद्धांत के अनुसार बच्चा एक लड़की होगी

आपको बता दे की रामजी का सिद्धांत बेहद जल्द ही पॉपुलर हो गया और इनके सिद्धांत के अनुसार ही कई महिलाये अपने गर्भाशय के समय में अनुमान लगाने के लिए इसका उपयोग करना शुरू कर दिया।

लेकिन कुछ बैज्ञानिको ने गहरी अध्यन के बाद पता लगाया की रामजी का सिद्धांत सटीक नहीं है। और कुछ अध्यन ने ये भी पता लगाया की रामजी की विधि केवल 50% समय ही सटीक है

यह भी पढ़े :

गर्भ में लड़का होने का संकेत ये है

  • अगर आपका बेबी बंप सामान्य से कम है, तो इसे लड़के का संकेत माना जा सकता है
  • अगर आपका बेबी बंप सामने की ओर ज्यादा स्पष्ट है, तो संभावना है की लड़का होगा
  • अगर आपका बच्चा की हृदय गति 140 बीट प्रति मिनट से कम है, तो पेट में लड़का होने का संकेत माना जाता है
  • अगर आप को नमकीन या खट्टा खाने की इच्छा है तो लड़के का संकेत है
  • मॉर्निंग सिकनेस का अनुभव ना होना लड़के की संकेत है
  • आपका पेशाब साफ आना भी लड़के का संकेत है
  • आपकी त्वचा रूखी हो रही है तो लड़के की संकेत है
  • पैरों पर सामान्य से अधिक बाल हैं, तो लड़का हो सकता है
  • मूड में बदलाव का अनुभव होना भी लड़के का संकेत है
  • स्तन के आकर में बदलाव से भी संकेत मिलता है की आपके गर्भ में लड़का है
  • अगर आप बाई करवट ज्यादा सोती है तो भी लड़के का संकेत माना जाता है
  • अगर आपके सर में ज्यादा दर्द होता है तो भी लड़के का संकेत माना गया है
  • अगर आपका पैर ठंडा और बाल झड़ रहे है तो लड़के का संकेत है

नोट : ये जितने भी संकेत है सब कही सुनी बातें है , इनका बैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इनके आधार पर ये नहीं कहा जा सकता है की इन लक्षण के आधार पर बेटा या बेटी होगी।

बेबी बॉय किस साइड रहता है लेफ्ट या राइट

तो दोस्तों Baby boy kis side rahta hai इसके बारे में हमने तो कहा है की बच्चा एक ही साइड नहीं रहता चाहे वह लड़का हो या लड़की बच्चा का स्थिति भिन्न हो सकता है।

लेकिन कई सारे बच्चे माँ की पीठ की ओर होते है। और बच्चा रीड पेट के साथ होता है। इसी लिए दोस्तों यह नहीं कह सकते है की बच्चा एक ही साइड रहता है।

और दोस्तों कुछ ऐसे भी कारण होते है जिससे बच्चा गर्भ में ही प्रभावित हो सकता है। जैसे की गर्भाशय में एमनियोटिक द्रव की मात्रा बच्चे को प्रभावित कर सकता है। और अगर तरल पदार्थ में कमी है तो बच्चा हिलने और डुलने के लिए जगह कम पड़ सकता है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों हमने आपको कहा है की गर्भावस्था के समय बच्चा भिन्न भिन्न अवस्था में रह सकता है। यह नहीं कहा जा सकता है की लड़का इस साइड में और लड़की उस साइड में यानि की लड़का और लड़की भिन्न भिन्न नहीं बल्कि दोनों ही भिन्न भिन्न अवस्था में हो सकते है। तो दोस्तों ऐसे जानकारी के लिए हमारे इस साइट में विजिट करते रहें

यह भी पढ़ें:

पिस्ता बादाम खाने के 6 फायदे- Pista Badam Khane Ke Fayde

FAQ

गर्भ में लड़का किस साइड रहता है?

बच्चा एक ही साइड नहीं रहता चाहे वह लड़का हो या लड़की बच्चा का स्थिति भिन्न हो सकता है।

पेट में लड़का होने की निशानी क्या है?

मॉर्निंग सिकनेसया मतली न होने का मतलब होता है की पेट में लड़का हो सकता है
​अगर शिशु का हार्ट रेट प्रति मिनट 140 बीट है चल रहा है तो लड़का हो सकता है
​बालों और त्‍वचा में बदलाव दिखाई दे तो हो सकता है की लड़का हो

लड़का गर्भ में कब हलचल करता है?

20 से 25वें में हफ्ते में लड़का गर्भ में हलचल करता है

कौन से महीने में लड़का हलचल करता है?

9वे हफ्ते से बच्चा पेट में हलचल करना शुरू कर देता है।

प्रेगनेंसी में लड़का कौन सी तरफ होता है?

बेबी का राइट साइड में होना सामान्य है, लेकिन बच्चा एक साइड नहीं होता वह घूमते रहते है।

गर्भ में लड़का या लड़की ज्यादा कौन हिलते हैं?

दोस्तों ये कहा नहीं जा सकता है क्यो की आजकल लड़किया लड़को की तरह हो चुकी है और लड़कियाँ लड़कों की तरह ही गर्भ में किक मारती हैं ।

Leave a Comment